all work subject to #copywrite @अनुभूति_anita1982. अभी तो जाने कितने तुफ़ान बाकी हें , अभी तो हमारा छूना आसमान बाकी है। ( अपने विचार लिखती हुँ अच्छा लगे तो कृपया हौसला बढ़ाएँ) You Tube Name अनुभूति अनिता पाठक Instagram link... anitapathak1982। follow me to read my poems , quotes and stories.

बहती नादिया सी ये जिंदगी भी हमारी है
कभी शांत कभी कोलहाल से भरी
यूं गुजरती जाती है
सुख और दुख और जाने कितने भावों को लिए
जैसे नदी अपने अंदर अनगिनत अवसाद लिए
कभी इस मोड़ तो कभी उस पूल से टकराती हुई
कभी लड़खड़ाती तो कभी संभलती जाती है

-अनुभूति अनिता पाठक

और पढ़े

https://youtu.be/rW7hvc5PjQo
👆👆
check out my new poem
जीवन और मौसम

यह दिल ही है जो
हर बार टूटकर भी
खुद को संभाल लेता है
ये छोटी सी जान
जाने कितना कुछ सहता है

-अनुभूति अनिता पाठक

और पढ़े

मेरे मन ने आज
फिर ये आवाज़ दी है
आगे बढ़ने के लिए
नई राह दी है
तो क्या हुआ
अंधेरा थोड़ा ज्यादा हो गया
सूरज को पाने की
फिर वही चाह दी है

-अनुभूति अनिता पाठक

और पढ़े

तुम्हें कसम है
फिर पीछे
मुड़कर ना देखना
इश्क है ये
कोई सौदेबाजी नहीं
जब साथ
छोड़ ही दिया
तो अब फिर
लौटकर ना आना

-अनुभूति अनिता पाठक

और पढ़े

https://youtu.be/6sMeFSN09Ws

एक बार जरूर सुनें 🙏

#InFavourOfInnocence
#bloggingelementary
#akritimattu

अप्रैल को बाल यौन शोषण निवारण माह के रूप में मनाया जाता है। हर साल, दुनिया भर में लाखों बच्चों का यौन शोषण किया जाता है। हर गुजरते साल के साथ यह संख्या बढ़ती ही जा रही है।

बाल यौन शोषण हमारे समय की भ्रष्टता को दर्शाता है। जब बात आती है खुद के ही बच्चों की रक्षा करने की तो एक समाज के रूप में हम बहुत बुरी तरह से असफल हो रहें हैं।

दुखद लेकिन इसी भयानक अपराध पर लिखी मेरी एक कविता

शीर्षक : गलती किसकी

वो आता जब भी घर, डर जाती थी वो
अपने आप में ही सिमट जाती थी वो

वो पराया नही एक अपना ही तो था
उसका आना एक बुरे सपने जैसा ही तो था

घरवाले बड़े खुश होते करते उसका आदर - सत्कार
उसके घिनौने हाथों सौंप देते वो नन्ही सी जान

कसमसा जाती वो कि कुछ भी समझ ना पाती
पर कुछ गलत था जो अंदर तक दहल जाती

गालों पर कभी जांघ पर वो घिनौने हाथ फेरता
एक कुटिल मुस्कान लेकर उसको पास खींचता

धीरे - धीरे बड़ी हुई वो समझ उसकी पूरी थी
घर में कोई समझता नहीं यही एक कमज़ोरी थी

एक दिन रौंद गया उसको कर गया वो शिकार
झूठी शान की खातिर आज झुक गया था परिवार

©️ अनिता पाठक

और पढ़े

https://youtu.be/-1yFAGU4c_o
👆👆
मेरी नई कविता
एक बार जरूर सुने। अच्छी लगे तो plz like और subscribe करके अपना सपोर्ट दें। 🙏🙏

https://youtu.be/Mzp4-uNpNB8

-अनुभूति अनिता पाठक

https://youtu.be/FaRd7cdSQdk
👆👆👆👆👆
motivational poem
plz like
share
commment
and
subscribe

-अनुभूति अनिता पाठक