ग्वालियर (म.प्र.) में जन्मे, खरगोन (म.प्र.) में पले बढ़े और बड़ौदा (गुजरात) में स्थाई रूप से बस चुके आशीष की लेखनी समाज में व्याप्त विसंगतियों पर प्रहार करने के साथ जिन्दगी को बेहतर ढ़ंग से जीने का संबल प्रदान करती है । ‘उस मोड़ पर’ उपन्यास,कहानी संग्रह ‘उसके हिस्से का प्यार’ और गुजरात हिंदी साहित्य अकादमी की अनुशंसा से प्रकाशित लघुकथा संग्रह "गुलाबी छाया नीले रंग" अब तक प्रकाशित कृतियां हैं। आप आशीष को फेसबुक पर भी फॉलो कर सकते हैं । https://www.facebook.com/ashishdalalwrites/

Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी रोमांस
2 साल पहले

अगर आपको कभी लगता है जिंदगी में बुरा आपके साथ ही होता है तो यकीन मानिए ऐसा ही होता है क्योंकि हर इंसान अपनी सोच पर पूरा विश्वास करता है ।

-Ashish Dalal

और पढ़े
Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
2 साल पहले

बधाई हो !

आप यकीनन दुनिया के सबसे नसीबदार और खुशनुमा इंसान हैं क्योंकि अपनों के चेहरों को मुस्कुराहट सम्हालते हुए भी आपकी अपनी खुशियों की चाबी सिर्फ आपके पास ही है।

और पढ़े
Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
2 साल पहले

#श्रुत

मां - जहां से जिन्दगी शुरू होती है।

वैसे तो प्यार की अभिव्यक्ति के लिए मां किसी एक दिन के लिए मोहताज नहीं होती क्योंकि मां के प्यार का कोई पर्याय नहीं होता। हर मां अपनी जिन्दगी में एक ही चाह रखती है कि उसकी सन्तान हमेशा उसकी सन्तान ही बनकर रहे। उम्र के किसी भी पड़ाव में पहुंच कर उसकी यह ख्वाहिश पूरी करते रहना बिल्कुल भी असंभव नहीं है।

अपने व्यस्त समय से थोड़ा कीमती समय मां को पूरी तरह से समर्पित कर दें। इससे अधिक मां अपनी सन्तान से कुछ नहीं चाहती।

और पढ़े
Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
2 साल पहले

आपका आज आपके माता-पिता के संस्कारों की धरोहर है आपका आने वाला कल आपके बच्चों के संस्कारों की मूरत होगा। अपने आज के व्यवहार से एक पीढ़ी तैयार होती है।

और पढ़े
Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
2 साल पहले

आज जिंदगी की दुकान से दुख का डिस्काउंट लेकर थोड़ा सुख जमा करते हैं। खुशियों का ब्याज उसमें जोड़कर हंसते हुए जिंदगी जीने का संकल्प करते हैं।

और पढ़े
Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
2 साल पहले

प्यार को प्यार से जीता जाता है लेकिन नफरत को भी प्यार से ही तो जीता जाता है तो प्यार सर्वोपरि हुआ न!

Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
2 साल पहले

हर किसी के मन के दरवाजे पर
शुभ लाभ लिखा होता तो
यकीनन दुनिया
सभी के लिए खूबसूरत होती।

Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
2 साल पहले

हर रिश्ता अनमोल होता है। यह एक अलग बात है कि उस रिश्ते में बंधा इंसान आपकी पसंद का न भी हो। पर फिर भी एक रिश्ते की खातिर दूसरे रिश्ते को निभा लेना ही समझदारी है क्योंकि इंसान गलत हो सकता है रिश्ता नहीं।

और पढ़े
Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
2 साल पहले

थोड़ा बहुत स्वार्थ तो हर संबंध में होता ही है किंतु जब यह स्वार्थ संबंधों पर हावी हद से ज्यादा होने लगता है तो दूरियां न चाहकर भी बनना शुरू हो ही जाती है।

और पढ़े
Ashish Dalal मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
2 साल पहले

किसके ना होने से आपकी जिंदगी में फर्क पड़ता है?
जो भी पहला नाम दिल में आए उसे अपना प्यार समय समय पर व्यक्त अवश्य करें क्योंकि जीवन में यही एक अहसास है जो जीने का संबल प्रदान करता है।

और पढ़े