Hey, I am on Matrubharti!

.रस्म एक खास
निभाना सीखो💕 💕

किसी को अपना बनाना है तो
पहले उसका बन जाना सीखो.💕💕

है कोई अहले दिल जो खरीदे हमारे मिजाज को
हम जख्म खरीदते हैं मुहब्बत करने वालों से

एक तेरी सदा के इंतजार में हूँ.
कैसे जुठ कहे दू, के करार में हूँ.

🌹बीना..."रुह"🌹

क़ैद में गुज़रेगी जो उम्र बड़े काम की थी
पर मैं क्या करती कि ज़ंजीर तिरे नाम की थी

जिसके माथे पे मिरे बख्त का तारा चमका
चाँद के डूबने की बात उसी शाम की थी

मैंने हाथों को ही पतवार बनाई वर्ना
एक टूटी हुई कश्ती मेरे किस काम की थी

वो कहानी कि सभी सुईयां निकली भी न थीं
फ़िक्र हर शख़्स को शहजादी के अंजाम की थी

ये हवा कैसे उड़ा ले गई आँचल मेरा
यूँ सताने की तो आदत मेरे घनश्याम की थी

बोझ उठाये हुए फिरती है हमारा अब तक
ए ज़मीं माँ तेरी ये उम्र तो आराम की थी

- परवीन शाक़िर

और पढ़े

❥ ➾कागज से मैं रोज तेरी शिकायत करता हूँ...//🎭

_ _ _लोग कहते हैं के मैं अच्छा लिखता हूँ...//💘💘

🌹🌹...एहसास ...✍

#कुछ तुम कोरे कोरे से , कुछ हम सादे सादे
से ,
एक आसमाँ पर जैसे, दोनों चाँद आधे आधे
से .....!

🙆👉Delete जितनी तेजी से होता है, उतनी तेजी से

Download नहीं होता।

क्योंकि... समय सृजन में ही लगता है, विसर्जन में नहीं।

चाहे... वो Application हो या फिर रिश्ते 👥💖

और पढ़े

❣💞"चंद लम्हो के लिए ही सही,
ठहर जा ना "ऐ वक़्त"..!!
वो आ रहे हैं मिलने को,
ख्यालों में ही सही..!!❣💞

जाने कैसा रिश्ता है रहगुज़र से क़दमों का
थक के बैठ जाऊँ तो रास्ता बुलाता है

शुभरात्री....
*नादान आईने को क्या खबर*,
*कि एक चेहरा चेहरे के अन्दर भी होता है*.