लिखना चाहता हूँ ,दोस्ती सिर्फ कलम से है दुश्मनी सिर्फ कागज से है जो भी लिखता हूं उसके मुख पर लिखता हूं बडे हक से लिखता है ,कुछ तो मैं लिखना चाहता हूँ. instagram -adarsh_singh_rathaur , twitter-ADARSHPRATAP91 ,FACEBOOK -ADARSH PRATAP SINGH

ADARSH PRATAP SINGH बाइट्स पर पोस्ट किया गया English ब्लॉग
2 महीना पहले
ADARSH PRATAP SINGH बाइट्स पर पोस्ट किया गया English सुविचार
2 महीना पहले
ADARSH PRATAP SINGH बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी ब्लॉग
2 महीना पहले

आइये मित्रता बढ़ाते है facebook के जरिये
https://www.facebook.com/adarshpratap.singh.9889

ADARSH PRATAP SINGH बाइट्स पर पोस्ट किया गया English ब्लॉग
2 महीना पहले
ADARSH PRATAP SINGH बाइट्स पर पोस्ट किया गया English प्रेरक
2 महीना पहले
ADARSH PRATAP SINGH बाइट्स पर पोस्ट किया गया English प्रेरक
2 महीना पहले

I am in 6484 days ....Target numbers of thousands
Don't ever give up if you're losing then just think about your parents ....,NOTHING in this whole word who defeats parents
TO BE MOST HAPPY
#thankfull
#RIPSUSHANTSINGH

ADARSH PRATAP SINGH बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी ब्लॉग
2 महीना पहले

शीघ्र शीघ्र इस शीघ्रता ने लोगो की जिंदगी में परिवर्तन की अभिलाषा उत्पन्न कर दी है, यहाँ कोई शीघ्रता से गिर रहा है और कही कोई शीघ्रता से उठ रहा है
कार्य की शीघ्रता आपके अभिलाषा का परिचय देती है
कही कोई शीघ्रता के रहते है अपने मन की बोलियों का परिचय दे देता है और वही कोई उसी शीघ्रता से उसे छुपा लेता है, वही
हमारा देश भी शीघ्रता से कोरोना जैसी महामारी का शिकार हो रहा है हमे उसी शीघ्रता से अपने लोगो को स्वस्थ करना है मैं यह कामना करता हु हम सभी लोगो के स्वस्थ और कोरोना को दूर करने में शीघ्रता दिखायेगे।

#शीघ्र #SHARE #QUICKSHARE
#Quick

और पढ़े
ADARSH PRATAP SINGH बाइट्स पर पोस्ट किया गया English ब्लॉग
2 महीना पहले

follow me on Instagram I'm on Instagram as @adarsh_singh_rathaur. Install the app to follow my photos and videos. https://www.instagram.com/invites/contact/?i=1k5k9suug6vtx&utm_content=auyuf3c

मुझको अकेले चलने पर सबसे अच्छा लगता है क्योंकि ,न कोई अपना पीछे छूटता और न कोई आगे निकलता है

ADARSH PRATAP SINGH बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी रोमांस
3 महीना पहले

ठीक है कि मैं तुझको घेर रहा हु -2,लेकिन उन्ही हातो से ही समेट रहा हु,तुम चाहे मुझे जितना भी दूर करो लेकिन मैं कही न कही से हमे जोड़ रहा हु

और पढ़े