मेरे लेखन की मूल विधा कहानी है साथ ही कविता एवं लेख भी लिखती हूँ. हाल ही में प्रकाशित नावेल एक थी मल्लिका है. पत्र पत्रिकाओं में कहानियाँ ,आकाशवाणी से सन 90 से अब तक निरंतर कहानियों लेख का प्रसारण. आप यहाँ पढ़िये कहानी-" राज की बात"

Shobha Sharma कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी समाचार
4 महीना पहले
Shobha Sharma कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
5 महीना पहले

एक #जिज्ञासु , की ज्ञान पिपासा कभी शाँत नहीं होती । जितनी भी नई खोजें होतीं वह #जिज्ञासु मन के कारण हो पातीं हैं तो दोस्तो जिज्ञासा बनी रहनी चाहिये। आपकी सफलता का राज यही है 😊
💐शोभा शर्मा💐
#जिज्ञासु

और पढ़े
Shobha Sharma कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
5 महीना पहले

प्रिय दोस्तो,
हरेक की अपनी कहानी है,
हरेक के अपने फसाने हैं ।। हिम्मती वही,
जो इन सब के बीच से उबर कर ,
सबको हरा कर आगे आये ,
निरंतर आने में प्रयास रत रहे ।
😊
मैं नहीं कहती कि किसी प्रतियोगिता में जियो ,
पर अपनी खुशी के लिये ,
अपनी ख्वाहिशों के लिये,
अपनों को समय देते हुये ही आगे बढ़ो।
कुछ न कुछ अपनी रूचि का करते रहो,
यह न सोचो कि कौन क्या कह रहा है।
बस लगे रहो ।
एक चींटीं से प्रेरणा लो ।
देखो कि वह कैसे सतत प्रयासरत रहती है। बस ऐसे ही कुछ नवसृजन करो,
करते रहो ,
जो आपको पसंद हो ।
सफल रहे या असफल यह देखो मत।
बस लगे रहो, बिना किसी निराशा के । जब भी निराशा मन में घर करे तब ,
आपके घर में, बगीचे में, कोने खुदरे में,
अदना सी चींटीं की जीवन चर्या पर गौर करो बस । सतत प्रयास करते रहो।
खुश रहने का एक मात्र मूल मंत्र यही है।
💐शोभा शर्मा💐 दि.26/04/20

और पढ़े
Shobha Sharma कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
5 महीना पहले

आज किसी का बर्थडे है, भई आज किसी का बर्थ डे है । वो है मेरी अपनी प्यारी, आज उसी का बर्थ डे है। उस ने दिया प्यार मुझे और, मान सम्मान बनी मैं उसकी माता , वो है मेरी सखी सहेली, उससे मेरा हुआ हमेशा, बेटी और बहू का नाता। उसे मुबारक रहे जन्मदिन , खुशियों के झूले झूले, आते रहें अनेक जन्मदिन , प्यार हमारा न भूले, कर्तव्यों से रहे सगाई, अपना हक भी ना भूले, आशीर्वाद हमारे हरदम , उसको प्यार दुलार मिले। 🤗🤗🤗🤗🤗 🙌🙌🙌🙌🙌😍😍😍😍😊हैप्पी बर्थ डे माई डियर स्नेहा, हैप्पी बर्थ डे टू यू🎂🎂🎂🎂🎂💐💐💐💐💐🌹🌹🌹🌹🌹🌈🎉🎉🎉🌈

और पढ़े
Shobha Sharma कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
5 महीना पहले

हम एक देश के वासी हैं
#विभिन्नता हमारी पहचान है
रीति रिवाज अलग हो भाषा ,
विभिन्नता में एकता,
यही हमारी शान है।
कोई पहने सर पर साफा,
टोपी और पहने धोती,
कोई खाता इडली ,पोली,
कोई खाता बस रोटी ।
कोई बोलता गुजराती,
मराठी, पहाड़ी,हाडोती।
कोई बोलता तमल तेलगू
,मलयालम और हिंदी,
भाषाओं पहनावे में भी,
बड़ी विभिन्नता है होती।
खानपान, पहनावा ,बोली
रहन सहन अनेक हैं,
फिर भी हम सब भारतवासी,
दिल से हम सब एक हैं।
💐शोभा शर्मा💐दि 14/04/20
#विभिन्न

और पढ़े
Shobha Sharma कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
5 महीना पहले

#मूल्यों का क्या ईमान ,
कभी चढ़ेंगे कभी उतरते हैं ,
तय हमें करना है कि ,
हमारी आत्मा बिकाऊ है ?
शोभा शर्मा
#मूल्य

और पढ़े
Shobha Sharma कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
6 महीना पहले

💐#शीघ्र 💐
कोरोना के कहर का,
#शीघ्र समय ये जाये बीत
लाँकडाऊन अब खत्म हो,
ऐसी दुआ करूँ मनमीत
💐शोभा शर्मा💐

#शीघ्र

और पढ़े
Shobha Sharma कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
6 महीना पहले

💐जिंदगी,💐
एक प्रश्न है तुझसे ?
ये बता ?
कमाई क्या तेरे साथ जायेगी ?
जब आयेगी #अँतिम घड़ी , अच्छाई ही साथ जायेगी।
रुपया-पैसा, मोटर गाड़ी, बंगले , नौकर, सोना-चाँदी सब रह जायेगा यहीं ,
मुठ्ठियाँ बंद लेकर आया था, खाली हाथ होगी बिदाई फिर #अँतिम
थोड़ा या ज्यादा कोई रो लेगा,
फिर बाद में भूलेंगे सब, हँसेंगे ,
गायेंगे जियेंगे अपना जीवन,
बस एक नेकी , अच्छाई आपकी , सद्कर्म,
यादें जो संचित होंगीं किन्हीं दिलों में,
जिनके लिये आपने दी होगी मदद , जिनको आपने दिया होगा तन मन धन से कुछ न कुछ,
बस वही #अंतिम थाती शेष रह जायेगी । इसलिये ऐ मनुज, लेते तो बहुत हैं,
देना सीख !!
देना सीख !!
💐शोभा शर्मा💐

और पढ़े
Shobha Sharma कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी रोमांस
6 महीना पहले

बहुत कुछ #अनकहे
लम्हे थे वो अनगिने,
छूट गये थे पीछे ,
देखे थे जो सपने
न हो सके वो अपने,
समय कभी रूकता नहीं,
समय कभी थकता नहीं।
बातें वो अनकहीं ,
रह गयीं वहीं खड़ीं।
इँतजार में तेरे,
शायद अब भी हों पड़ीं।
पीर दिल में आ बसी,
थी कोई तो बेबसी,
हम तो थे तुम्हारे ही,
तुम हमारे ना हुये।
#अनकहीं रवायतें ,
बेबसी की आयतें
रह गयीं थीं दरमियाँ,
जात की पात की,
धर्म की समाज की।
खिंचीं देख लकीरें ,
रह गये हम खड़े ।
#अनकहे वो स्वप्न थे ,
पूरे न हुये कभी ।
आज भी वो याद हैं,
रह गये जो #अनकहे
💐शोभा शर्मा💐
09/04/20
#अनकहा

और पढ़े
Shobha Sharma कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी रोमांस
6 महीना पहले

#अनकहा
कुछ था #अनकहा जो
तू समझ न सका।
कुछ था अनछुआ जो
अधूरा ही रह गया।
प्रेम में कुछ कहने की,
जरुरत ही नहीं।
सब कुछ तो ,
आँखों ने कह डाला।
अपने दिल से पूछना,
उसने भी कुछ तो बताया होगा?
💐शोभा शर्मा💐
09/04/20
#अनकहा

और पढ़े